| | |

साबरमती आश्रम


साबरमती आश्रम 

साबरमती आश्रम, पहले सत्याग्रह आश्रम के नाम से जाना जाता था। यह उन तमाम ऐतिहासिक घटनाओं का साक्षी रहा है जिसने ब्रिटिश साम्राज्य को हिला दिया था। 1915 में इसकी स्थापना की गई। यह मूल्य और अनुशासन पर आधारित सामुदायिक जीवन का बेहतरीन उदाहरण है। गुजरात राज्य में अहमदाबाद से सिर्फ 5 किलो मीटर दूर साबरमती नदी के पीिचमी किनारे पर यह बसा है।


प्रमुख आकर्षण

आश्रम परिसर में एक उल्लेखनीय संग्रहालय है। इस संग्रहालय की पांच ईकाइयाँ हैं जिनमें कार्यालय, ग्रंथालय, चित्रावली दीर्घा और एक सभागृह है। संभवतः यहाँ गांधीजी के पत्रों और लेखों की सर्वाधिक मूल पांडुलिपियाएँ हैं।

संग्रहालय में गांधीजी के जीवन के आठ आदमकर रंगीन तैलचित्र हैं। जिनमें "मेरा जीवन ही मेरा संदेश है।" और 'अहमदाबाद में गांधीज' प्रदर्शित हैं। यहाँ एक पुराभिलेख संग्रहालय भी स्थापित किया गया है जिसमें गांधीजी के 34,066 पत्र, 8,633 लेखों की पांडुलिपियाँए 6367 चित्रों के निगेटिव्स, उनके लेखन पर आधारित माइक्रोफिल्म के 134 रील तथा गांधीजी और उनके स्वाधीनता आंदोलन पर आधारित 210 फिल्में संग्रहित हैं। ग्रंथालय में 30,000 से अधिक पुस्तकें हैं इनके अलावा यहाँ गांधीजी को दिये 155 प्रशस्ति-पत्र एवं दुनिया भर में गांधीजी पर जारी की गई मुौाएँए सिक्के और डाक टिकटों का अद्भुत संकलन है।

बुधवार, शुक्रवार और रविवार को शाम 6.30 गुजराती में और शाम 8.30 अंग्रेजी में न्यूनतम शुल्क पर यहाँ ध्वनि और प्रकाश पर आधारित श्यावलियाँ आयोजित की जाती हैं। अन्य दिनों में यह आयोजन हिंदी में किया जाता है।

प्रातः 8.30 से शाम 6.00 तक यह आश्रम साल भर खुला रहता है। यहाँ प्रवेश निःशुल्क है।


कैसे पहुँचे

दिल्ली और मुंबई से अहमदाबाद को बेहतरीन रेल और हवाई सेवाएं उपलब्ध हैं।


यात्रा का सर्वोत्तम समयः

अक्तूबर से मार्च


कृपया अतिरिक्त जानकारी के लिए संपर्क करें ।

1. http://www.indiatravelinfo.com/ahmedabad-hotels/gandhi.htm

2. http://www.ahmedabad-hotels.net/gandhi.htms


| | |