| | |

46. प्रेम के उपवास

देशका बच्चा-बच्चा जानता है कि गांधीजी क्या चाहते हैं । वे चाहते हैं

कोई किसीको न मारे। कोई किसीको न सताये ।

यही उनका उपदेश है । यही वे चाहते हैं ।

यही वजह है कि जो बालक उनकी राष्ट्रीय शालाओंमें या कौमी मदरसोंमें पढ़ते हैं, वे नहीं जानते कि मार किस चिड़ियाका नाम है । वहाँ बच्चोंको मारपीटका जरा भी डर नहीं रहता । अगर कोई शिक्षक मारने उठता है, तो बालक खडा़ होकर पूछ सकता है 'गांधीजी तो मारपीटको बुरा समझते हैं, फिर आप मारते क्यों हैं?'

बच्चोंसे गलती हो जाने पर भी गांधीजी उन्हें मारते नहीं, न तानों-तिश्नोंसे उन्हें शरमाते और बेइज्जत ही करते हैं । लेकिन जब बच्चोंसे कोई बडा़ गुनाह, बडी़ गलती हो जाती है, तो गांधीजी उसकी सजा खुद भुगत लेते हैं खुद भूखों रह जाते हैं। यह उनका अपना तरीका है ।

एक दफा उनेहोंने इसी तरह आठ दिनके और दूसरी दफा चौदह दिनके उपवास किये थे ।

वे कहते हैं, बच्चोंके दोषके लिए, उनकी गलतियोके लिए, मैं उन पर गुस्सा क्यों होऊँ? खुद मेरे अन्दर ऐसी कोई बुराई होनी चाहिए, जिससे बालकोंको भी बुरा काम करनेकी बात सूझी । अगर मैं पवित्र हूँ, तो मेरे पास रहनेवाले बालक अपवित्र कैसे हो कसते हैं? मैं पाक और ये नापाक क्यों? अगर मैं सच्चे मानोंमें अहिंसाक हूँ, अहिंसाका ठीक-ठीक पालन करता हूँ, तो यह हो नहीं सकता कि कोई बालक मुझसे डरे अपनी गलतियाँ मुझसे छिपावे ।

बस, इन्हीं विचारोके कारण गांधीजी ऐसे मौकों पर खुद उपवास कर लेते हैं । बच्चोंको सजा नहीं देते ।

अब कौन ऐसा बालक होगा, जो अपार प्रेमके आगे अपना सर न झुकायेगा?

| | |