| | |

45. राष्ट्रीय उपवास

पंजाबमें मातृभूमिकी, मादरे हिन्दका, घोर अपमान हुआ था । इस अपमानसे सबके दिलोंमें एक आग जल ऊठी थी, और सारे मुल्कने मिलकर सत्याग्रह करनेका निश्चय किया था ।

लेकिन यह इतना बडा़ काम, भगीरथ काम, शरू कैसे किया जाय? गाँव गाँवमें और नगर नगरमें सभायें करके? हाँ, यह एक करने लायक काम है । लेकिन गांधीजीको सिर्फ सभाओंसे संतोष क्योंकर हो?

अच्छा तो गाँव गाँव और शहर शहरमें हड़ताल मनाई जाय?

ठीक है, इससे भी हमारा कदम कुछ आगे तो बढ़ता है, लेकिन गांधीजीकी तसल्लीके लिए यह भी काफी न था । वे तो किसी ज्यादा बडी़ चीजके लिए तड़प रहे थे । आखिर एक बात सूझी । तय किया गया कि देशके सब लोग एक ही दिन इस सिरेसे उस फाका करें, उपवास रखें ।

सन् 1921 का साल था और अप्रैल महीनेकी 13वी तारीख । गांधीजीका संदेश, अनुका पैगाम, देशभरमें फैल चुका था । उस दिन देशके इस कोनेसे उस कोने तक लोगोंने व्रत रखा, फाका किया, शामको प्रार्थनामें शामिल हुए, दुआयें कीं । वह एक ऐसा दिन था, जब इस बडे़ भारी मुल्कमें, इस विशाल देशमें, तीस करोड़ औरत और मर्द नहीं थे, बल्कि तीस करोड़ सिरोंवाला और साठ करोड़ हाथ-पैरोंवाला एक ही राष्ट्रपुरूष था। उस दिन देश एक हो गया था । राष्ट्रीय एकताका वह एक अनोखा दृश्य था ।

राष्ट्रीय उपवास का वह दिन हिन्दुस्तानके इतिहासमें अमर हो चुका है ।

| | |